US छोड़ 3 दोस्तों ने भारत में शुरू की कंपनी, 4 हजार करोड़ रोज का टर्नओवर

Spread the love

अमेरिका में मंदी की मार से बचने के लिए दो साल पहले मुंबई पहुंचे डिस्काउंट ब्रोकिंग के तीन एक्सपर्ट ने अपनी कंपनी शुरू की। दो साल के अंदर ही 50 कर्मचारियों के साथ डिस्काउंट ब्रोकिंग कंपनी आरकेएसवी का टर्नओवर 4,000 करोड़ रुपए(रोजाना) पहुंच गया। यह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के कुल टर्नओवर का 1.3 फीसदी है। जबकि, मुंबई में पिछले कई दशकों से इस क्षेत्र में काम कर रही दिग्गज कंपनियों का एनएसई टर्नओवर का महज 5-6 फीसदी है। अप्रैल 2008 में जब सेबी ने डायरेक्ट मार्केट एक्सेस (डीएमए) को मंजूरी दी तभी अमेरिका की इस तिकड़ी ने भारत में किस्मत आजमाने का फैसला कर लिया था।

1434716483raghu-1
 कैसे पड़ा कंपनी का नाम
रघु कुमार, रवि कुमार और श्रीनिवास विश्वनाथ ये तीनों ने मिलकर इस कंपनी की स्थापना की थी। कंपनी का नाम इन तीनों के नाम के पहले अक्षर से लिया गया है। रघु कुमार और रवि कुमार से RK और श्रीनिवास विश्वनाथ के नाम से SV अक्षर लिए गए हैं। इस तरह कंपनीक का नाम RKSV पड़ा।
कंपनी का व्यवसाय ऑन लाइन स्टॉक ब्रोकिंग का है। कंपनी अपने क्लाइंट को अन्य ब्रोक्रेज फर्म की तुलना में ज्यादा डिसकाउंट देकर ऑनलाइन ट्रेडिंग करती है। कंपनी के पास बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज, मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज और करंसी एक्सचेंज की सदस्यता है। अपनी क्लाइंट्स को इलैक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म और फोन के जरिए शेयर बाजार, कमोडिटी बाजार और करंसी मार्केट में ट्रेड करने की सुविधा देती है। कंपनी के लिए कमोडिटी ट्रेडिंग सहायक कंपनी RKSV कमोडिटीज करती है।
80 कर्मचारियों वाली कंपनी
नबंवर 2014 के आंकड़ों के मुताबिक कंपनी में कुल 80 कर्मचारी काम करते हैं। कंपनी का मुख्यालय ट्रेड सेंटर बिल्डिंग बीकेसी, बांद्रा ईस्ट मुबंई महाराष्ट्र में है।
क्या खास इस कंपनी में
देश में कम ब्रोक्रेज चार्जेस पर अनलिमिटिड ट्रेडिंग कराने का सबसे पहला प्लान इसी कंपनी की ओर से निकाला गया था। इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए कंपनी ने 2013 में फ्लैट फीस देकर अनलिमिटेड ट्रेडिंग की स्कीम लॉन्च की थी। साथ ही कंपनी ने अपने क्लाइंट्स को मोबाइल के जरिए ट्रेडिंग करने की सुविधा प्रदान की।
ट्रांस्पेरेंट कैल्युलेटर की सुविधा
कंपनी अपने क्लाइंट्स को ट्रांस्पेरेंट कैलक्युलेटर की सुविधा प्रदान करती है। इस कैलक्युलेटर के इस्तेमाल से कोई भी ट्रेडर्स किसी भी समय यह जान सकता है कि मौजूदा भाव पर सौदे काटने पर किसी ट्रेडर्स को सारे चार्जेज कटने के बाद कितना मुनाफा या नुकसान होगा। अभी तमाम ब्रोक्रेज हाउसेस इस तरह की सुविधा प्रदान नहीं करते हैं। क्लाइंट अभी अपने डीमैट अकाउंट के जरिए केवल एमटूएम मार्जिन्स का पता लगा सकते हैं। नेट प्राफिट या लॉस का पता ट्रेडर्स को सेटलमेंट के बाद ही पता चलता है।
कंपनी का टर्नओवर 4000 करोड़
2012 में सभी एक्सचेंज को मिलाकर कंपनी का रोजाना टर्नओवर 4000 करोड़ रुपए का है। जो नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के कुल टर्नओवर के 2 फीसदी के बराबर है। वहीं 2014 में कंपनी ने रिटेल ट्रेडिंग की शुरुआत की। जिसके बाद कंपनी के ट्रेड 1000 से 10 लाख तक हर महीने बढ़ने की उम्मीद है। साथ ही कंपनी अपने क्लाइंट्स को हर महीने 5 फ्री ट्रेड जैसी सुविधाएं दे रही है जिससे ट्रेडिंग वाल्यूम में इजाफा होने की उम्मीद है।

कंपनी के फाउंडर ने थी फोर्ब्स की लिस्ट में दस्तक

कंपनी के को फाउंडर रघु कुमार चेजिंस द वर्ल्ड 30 की फोर्स लिस्ट के फाइनलिस्ट बने थे। रघु कुमार को ट्रेडिंग पर लगने वाली ब्रोक्रेज को निचले स्तर पर लाने के लिए सराहा गया।
  • 13
    Shares

Ravi Bhosale

मेरा नाम रवि भोसले है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, Startup,Technology, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Subscribe करें।

Signup for our newsletter and get notified when we publish new articles for free!