भारतीय महिला ने लंदन में CA की शानदार नौकरी छोड़ चंडीगढ़ में शुरु की आर्गेनिक खेती, घर में ही खेती करके 200 किलो सब्जी हर महीने उगा लेती हैं।

Spread the love
  • 14
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    14
    Shares
138 Views

भारतीय महिला ने लंदन में CA की शानदार नौकरी छोड़ चंडीगढ़ में शुरु की आर्गेनिक खेती, घर में ही खेती करके 200 किलो सब्जी हर महीने उगा लेती हैं।

CA बनना कोई आसान बात नहीं। बड़े बड़े होशियार स्टूडेंट्स भी CA का एक्जाम पास नहीं कर पाते और अगर पास कर लिया तो फिर CA की नौकरी छोड़ने का दुस्साहस तो बिल्कुल नहीं कर पाते। और अगर CA की नौकरी दुनिया के सबसे बड़े, सबसे अमीर और सबसे महंगे शहर लंदन में तो फिर ये नौकरी छोड़ने का सवाल ही पैदा नहीं होता।

लेकिन चंडीगढ़ की एक महिला मनजोत ने ये दुस्साहस कर ही डाला। मनजोत ने जो किया वो महिला होने के नाते और भी ज्यादा अहम हो जाता है।

दरअसल, चंडीगढ़ के सेक्टर 18 में रहने वाली मनजोत ने लंदन में CA की पढ़ाई की और वहीं पर CA के तौर नौकरी भी करने लगी। CA की कमाई वैसे भी अच्छी ही होती है और लंदन में तो ये जबरदस्त होती है। लेकिन इस छोटी सी जिंदगी को अपने घर में जी कर सुख पाने की लालसा ने मनजोत को वापस भारत बुला लिया।

सीए से किसान कैसे बनीं मनजोत

बी.कॉम करने के बाद मनजोत लंदन में सीए की तैयारी कर रही थीं। लेकिन तभी उनको 2003 में अपनी बहन की एक कार एक्सीडेंट में मृत्यु की खबर मिली। उनके मन में ख्याल आया कि 4 दिन की जिंदगी है, पता नहीं कब किसको क्या हो जाए। इसलिए बेहतर होगा कि इस छोटी सी जिंदगी को खुशी के साथ गुजार लेना चाहिए और वही करना चाहिए जो मन करे।

हालांकि इस बीच वो अपनी सीए की पढ़ाई करती रही। सीए की पढ़ाई पूरी करने के बाद उनको नौकरी मिली और उन्होंने कुछ साल नौकरी। नौकरी करते हुए ही उन्होंने 2006 में भारत आकर पॉंडिचेरी में ऑर्गेनिंक खेती की ट्रेनिंग ली और फिर वापस लंदन जाकर नौकरी करने लगीं। लंदन में भी ऑर्गेनिक फॉर्मिंग के बारे में कुछ जगहों पर ट्रेनिंग ली।

इसके बाद 2009 में सीए की नौकरी छोड़कर वो वापस चंडीगढ़ आ गई। सेक्टर 18 में उनको दो घर हैं। इनमें से एक प्लॉट उन्होंने खेती करने का फैसला किया। इसकी मिट्टी की ऊपरी सतह को काफी नुकसान हो चुका था और ज्यादा उपजाऊ नहीं रही थी। लेकिन मनजोत ने मेहनत करके इसके उपजाऊ बनाया और फिर सब्जियां उगाना शुरु कर दिया।

खेती से उत्पादन

उस मेहनत का नतीजा आज सभी के सामने हैं। अब वो हफ्ते में 50 किलो यानी महीने में 200 किलो से ज्यादा तरह तरह की सब्जियां उगाती हैं। खास बात ये है कि उनको इन सब्जियों को बेचने के लिए कहीं नहीं जाना पड़ता। आसपास के ही लोग इनसे ऑर्गेनिक सब्जियां खरीद लेते हैं। मनजोत के घर में ही बने खेत में भिंडी के पौधे, अमरूद के पेड़ और कमल की लताएं देखने को मिल जाती हैं।

मोहल्ले से ही मिला जाता है ऑर्गेनिक खेती का सामाना

शहर में ऑर्गेनिक खेती करने का तरीका तो कोई मनजोत से सीखे। ऑर्गेनिक सब्जियां उगाने के लिए गोबर, पेडों के पत्ते और फलों के छिलके खाद के तौर पर इस्तेमाल किए जाते हैं।

ये सभी कुछ उनको अपने ही मोहल्ले के घरों से आसानी से मिल जाता है। कूड़े वाला जब आता है तो वो भी ये सब मनजोत को दे जाता है।

  • 14
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com