नारायण पुजारी की आइसक्रीम शॉप का सालाना टर्नओवर है 20 करोड़ रुपये |

Spread the love
  • 17
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    17
    Shares
200 Views

नारायण पुजारी की प्रेरणादायक कहानी हिंदी में| Motivational Story in Hindi |

1967 में जन्मे नारायण पुजारी कर्नाटक के कुंडापुर के रहने वाले है| नारायण पुजारी की आइसक्रीम शॉप का सालाना टर्नओवर है 20 करोड़ रुपये| नारायण पुजारी शिवसागर रेस्टोरेंट चैन के मालिक है|  

नारायण पुजारी हमेशा से मुंबई आना चाहते थे| उन्हें मुंबई के बारे में अपने गाँव के लोगो से पता चलता था| उनके गाँव के लोग जो मुंबई में काम करते थे| उन्हें वहाँ की कहानियाँ और मुंबई के बारे में बताते थे| बस यही से उन्होंने मुंबई जाने का मन बना लिया|

नारायण पुजारी एक मध्यम वर्गीय से ताल्लुक रखते है| उनका परिवार खेती करता था| जब उन्होंने 1980 में अपना स्कूल छोड़कर मुंबई जाने का decision लिया था| तब उनकी नानी ने उन्हें मुंबई जाने के लिए 30Rs दिए थे| मुंबई में वे अपनी बुआ के घर रुके| वे मुंबई में ही रहती थी| digital

एक रिश्तेदार की मदद से उन्हें दक्षिण मुंबई के बलार्ड एस्टेट के कार्यालय में कैंटीन में एक वेटर का काम मिल गया| उस कैंटीन में काम करने के उन्हें 40Rs का वेतन मिलता था|

कुछ समय के बाद उन्होंने बलार्ड एस्टेट के कैंटीन की नौकरी छोड़ दी|उसके बाद उन्होंने पीडब्ल्यूडी कार्यालय के कैंटीन में काम करना शुरू कर दिया| यहाँ उन्होंने करीब 2 साल तक नौकरी की| यहाँ 2 साल नौकरी करने के बाद उन्होंने कफ परेड में उन्हें अपना 20-सीटर कैंटीन शुरू किया|

अपने खुद के कैंटीन को चलाने के बाद उन्हें कई अनुभव हुए| उन्हें business चलाने के बारे में पता चला कि एक business को कैसे चलाया जाता है| इसी तरह काम करते रहने के बाद 1990 में उनकी मुलाकात बागुभाई पटेल नाम के एक व्यक्ति से हुई| जो खुद एक food business चलाते थे|

उन्होंने नारायण पुजारी को अपनी दक्षिण मुंबई में केम्प्स कॉर्नर में आइसक्रीम की दुकान ‘शिव सागर’ चलाने के लिए बुलाया| बगुभाई अपनी इस शॉप को अच्छे से चला नही पा रहे थे| इसीलिए उन्हें एक ऐसे आदमी की आवश्यकता थी जो इसे अच्छे से चला सके|

नारायण ने प्रॉफिट के 25% हिस्सेदारी पर उस दुकान की जिम्मेदारी ले ली और वे इसे संचालित करने लगे| नारायण बताते है कि दुकान बहुत बड़ी थी इसीलिए मैंने दुकान के मेनू कार्ड में कुछ food आइटम्स को ओर जोड़ा जिसे लोगो ने बहुत पसंद किया

हमारी दुकान के सालाना टर्नओवर 3 लाख रुपये था| लेकिन नारायण जी ने इसे साल भर में ही 1 करोड़ तक पंहुचा दिया| टर्नओवर बढ़ने के बाद उन्होंने शिवसागर की एक और ब्रांच खोलने का निर्णय लिया|

नारायण बताते है कि इस सफलता के बाद मैंने शिवसागर का कुछ हिस्सा खरीद लिए| शिवसागर की ब्रांच खरीदने के लिए मैंने 16 घंटे तक काम किया| 1994 में शादी करने के बाद उनकी पत्नी ने भी उनके business को रन करने में सहयोग करती है|

  • 17
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com