मन पर control कैसे करे

Spread the love
  • 17
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    17
    Shares
186 Views

मन पर control कैसे करे

मन क्या है –

विचारो के समूह को Mind कहा जाता है जिसमे जो विचार हम भली भाटी सोच समझकर अपने या किसी और के पुराने Experience से  हैं उसे विवेक या बुध्दि कहते हैं . और जो विचार हम अपनी इन्द्रियों को खुश करने के लिए सोचते हैं वो मन है सदा शब्दों में हमें पता है इन विचारो से हमरा कुछ अच्छा नहीं होगा पर उन्हें सोचने में हमें या तो हमें मज़ा आ रहा है या हम डर रहे है या इस तरह की कोई भी नेगेटिव फीलिंग आ रही है उसे मन कहते है.

मन पर कण्ट्रोल करना क्यों ज़रूरी है

अगर एक स्टूडेंट मन पर कण्ट्रोल नहीं करे और जो भी उसके मन में आये वह आये वो करे जैसे जब टीवी देखने का मन हुआ टीवी देखा . जब खेलने का मन हुआ खेला , तो उस बच्चे का भविष्य क्या होगा .कितने बच्चों का मन पड़ने का करता है ? उसी तरह हर वह वयक्ति जिसका जीवन में कोई aim है उसका मन पर कण्ट्रोल नहीं होगा तो उसका क्या होगा या कोई एआईएम नहीं भी है अगर आप मन जीवन में खुश स्वास्थ्य रहना चाहते हैं तो आपका मन पर कण्ट्रोल होना बहुत ज़रूरी है .

मन पर कण्ट्रोल कैसे करे

अब सवाल आता है मन पर कण्ट्रोल कैसे किया जाये . अर्जुन ने भगवन कृष्णा

 से कहा -“भगवन इस मन पर वश करना तो वायु को वश में करने से भी ज़्यदा कठिन है ”
भगवन ने कहा हाँ इस मन पर वश करना बहुत कठिन पर अभ्यास (प्रैक्टिस) और वैराग्य से इस मन पर वश किया जा सकता है
सबसे पहले ये बात समझ ले की मन एक बच्चे की तरह है आप ज़बरदस्ती उससे कुछ नहीं करवा सकते . इसे समझाना पड़ता है और एक बात आप जितना मन के अनुसार करते जाएंगे उतना ही मन को समझाना मुश्किल होगा. अपने मन को यह कहानी समय समय पर याद दिलाते रहे.
एक मोटा चूहा एक अलमारी में घुस गया वहन खाना का बहुत सामान रखा था उसे खूब जमकर खाया कुछ ही दिन में वह खूब मोटा हो गया अल्मारी में अब चूहे को घर याद आया और उसने सोचा यहाँ से बहार निकलना पड़ेगा पर जिस जगह से चूहा घुसा था उस जगह से उसने निकले की कोशिश की पर मोटा होने की वजह से वो है निकला पाया कुछ दिन तक जब उसने कुछ नहीं खाया और कुछ ही दिन में वो पतला हो गया और बहार निकल आया . अगर चूहा खाना है छोड़ना तो क्या कभी बहार निकला पता .
उसी तरह हमें अपने मन पर कण्ट्रोल करने के लिए अपनी बेकार की आदतों को छोड़ना पड़ेगा .जैसे डे ड्रीमिंग , गॉसिप दुसरो का मज़ाक उड़ाना , समय को वर्वाद करना आदि.
१. खाली न रहे कहा भी गया है खाली दिमाग शैतान का घर . अपने आपको किसी न किसी अच्छे काम में बिजी रखे
२. टाइम टेबल बना ले और उसके अनुसार काम करे . जिसने मन को बकबास करने का कम से कम समय मिलेगा
३. जो चीज़ पता है हमरे लिए सही नहीं है उसके बारे में न सोचे. सोचने से हमारे एक्शन होते हैं और एक्शन से हमारा केरेक्टर बनता है .
४. गलत लोगो के साथ में न रहे .जैसे लोगो के साथ हम रहते हैं वैसे ही हमारा मन बन जाता है
५. दिन में कुछ टाइम पॉजिटिव वीडियो , बुक्स को पढ़ने के लिए ज़रूर निकाले.

Source : badhtechalo

  • 17
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com