हर इन्सान से कैसे सीखे?

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
96 Views

हर इन्सान से कैसे सीखे?

जानवर और इन्सान में केवल एक समझ और ज्ञान का फर्क होता है, इन्सान की बुद्धि विकसित हो चुकी है. और वो धीरे-धीरे सीखता जा रहा है.

इन 5 तरीको से अपना ज्ञान हर इन्सान से लेकर बढ़ाते रहे

1 . सबसे पहले अपने अवलोकन शक्ति को बढ़ाये

अवलोकन का मतलब होता है आप कितनी बारीकी से चीजो को देखते और सुनते हो. अगर आप किसी इन्सान से मिलो तो उसके बोलने के तरीके से कुछ सीखो, उसके खड़े होने के तरीके से कुछ सीखो, उसके चलने के और हर एक्टिविटी से सीखते चले जाओ.इसके लिए आपकी अवलोकन शक्ति जितनी अच्छी होगी उतने ही जल्दी से आप लोगो को समझते जाओगे और उनसे सीखते जाओगे.आप बस में, ट्रेन में हर जगह हर इन्सान से सीखते वक्त इतने एक्टिव हो जाओगे की तब आप हर पल कुछ न कुछ सिख रहे होगे.आपको आलस दूर-दूर तक नहीं दिखेगा, आलस इन्सान को तब आता है जब इन्सान के पास कुछ interesting करने को नहीं रहता, लेकिन जब आप हर इन्सान से सीखोगे तब आपको जिंदगी भी अच्छी लगेगी.

2 . इन्टरनेट पर अपने फील्ड के व्यक्ति से जुड़े

इन्टरनेट पर भारतीय लोग भी काफी वेबसाइट/ब्लॉग और YouTube पर चैनल बना रहे है, अगर आप चाहो तो उनसे भी कांटेक्ट करके बात करके उनसे भी काफी चीजे सिख सकते है.उनके लिखे हुए ब्लॉग पर आर्टिकल पढ़ कर या YouTube की हर एक ज्ञान से भरी हुई विडियो देख कर सिख सकते है.जैसे मानलो आपको राइटिंग पसंद है, तो इन्टरनेट पर आपको कई ब्लॉग मिल जाएगी जो अच्छा राइटर बनने को गाइड करते है.

3 . अपनों से छोटो से भी सीखो

ऐसा जरुरी नहीं है अगर आप उम्र में या क्लास में आगे है तो आपको सब आता है, ऐसा आपके दिमाग में आना ही नहीं चाहिए की आपको इस विषय में सब आता है, क्योंकि अगर आप ऐसा करते है तो आपनी ज्ञान के बढ़ने के आकड़े को कम कर देते है.आपको हर इन्सान से ज्ञान को लेना है, हर वक्त ज्ञान को लेने के लिए सतर्क रहना है.

4 . असफल लोगो से भी सीखो

हाहा….!! आपको जरुर यह सुनने में अजीब लगा होगा कि उनसे क्या सीखना?चलिए मैं एक उदहारण से इस बात को समझाता हूँ.मानलो आप एक मेडिकल खोल रहे है, और आप मेरी इस बात को मान कर एक असफल मेडिकल चलाने वाले से सलाह ली तो आपको यह बात जानने को मिली की गलत जगह पर मेडिकल नहीं खोलना मेडिकल के लिए एक अच्छी जगह भी होना चाहिए.

5 . सबसे इम्पोर्टेन्ट: ध्यान एक तरफ

अगर आपका ध्यान एक तरफ नहीं है तो कभी भी बारीक़-बारीक़ बातो को गौर करके नहीं सिख सकते. जितना आपका ध्यान लगाने की क्षमता अच्छी होगी उतने जल्दी किसी भी समस्या से आप समझ कर हल कर के बाहर आ सकते है.

तो शुरू होता है अब आपके सिखने का सफ़र, क्योंकि जो इन्सान सिख रह रहा है वो जिन्दा है, जिसने सीखना बंद किया वो जिन्दा लाश है.

Source : Gyanipandit

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com