क्रिकेटर विराट कोहली जीवन परिचय Cricketer Virat Kohli

Spread the love

Indian Cricketer Virat Kohli Biography In Hindi

विराट कोहली का जीवन परिचय

वो कहते है न की हर इन्सान का एक अच्छा वक्त जरुर आता है अब ये इन्सान पर निर्भर करता है उस अच्छे वक्त का उपयोग अपने जीवन के लिए किस प्रकार करता है आज के दौर में हर कोई अपना लक्ष्य तो बनाता है और जब लक्ष्य हासिल करने की बात आती है तो इस लक्ष्य पाने की रेस में अच्छे अच्छे अपने लक्ष्य से भटक जाते है और फिर फिर शुरू होता है जीवन में असफलताओ का दौर जो की कोई भी इन्सान अपने जीवन में कभी भी सपने में नही सोचता है की उसे असफलता मिल सकती है

लेकिन कभी भी लम्बी रेस का खिलाडी वही होता है जो लक्ष्य बनाता नही बल्कि बनाये हुए लक्ष्य को पीछा करके हासिल करने में विश्वास रखता है और यही खासियत भारतीय क्रिकेट के सुपरस्टार का तमगा हासिल कर चुके विराट कोहली / Virat Kohli का भी है

एक समय भारतीय क्रिकेट खिलाडियों द्वारा खेल के मैदान में बड़े बड़े लक्ष्य बनाये जाते है और फिर उसी लक्ष्य के सहारे जीत की संभावना तलाशी जाती थी लेकिन गजब के प्रतिभा के धनी विराट कोहली लक्ष्य बनाने में नही बड़े से बड़े लक्ष्य को पीछा करके उसे धराशाई करके जीत हासिल करने में विराट कोहली / Virat Kohli को जो मजा आता है वो वाकई अपने आप में काबिलेतारीफ है

हर कोई अपने जीवन के इस खेल में लक्ष्य तो बना सकता है और लक्ष्य बनाना आसान भी है लेकिन जो बनाये हुए लक्ष्य पर फतह हासिल करना है तो कोई भी विराट कोहली / Virat Kohli से सीख सकता है विराट कोहली / Virat Kohli की प्रतिभा आज के समय में किसी से छुपी नही है भारतीय क्रिकेट के भगवान का दर्जा दिए जाने वाले दिग्गज खिलाडी सचिन तेंदुलकर / Sachin Tendulkar भी विराट कोहली / Virat Kohli की तारीफ कर चुके है और सचिन तेंदुलकर कहते है की विराट कोहली / Virat Kohli का खेल देखने में उन्हें मजा आता है तो आईये जानते है विराट कोहली / Virat Kohli के जीवन से जुडी उन तमाम जानकारियों को जिनसे संघर्ष करते हुए विराट कोहली आज सफलता के इस मुकाम पर पहुचे हुए है की हर भारतीय फैन विराट कोहली के खेल का दीवाना है और जब विराट खेल के मैदान में होते है सारे सोशल मीडिया इनके रनगति के साथ काफी सक्रीय हो जाती है और यही विराट कोहली का खेल उनको अपने आप में सबसे तेज बनाती है जो शतको के मामले में सबसे तेज गति से सक्रीय है

विराट कोहली का जन्म 5 नवम्बर 1988  को दिल्ली में एक पंजाबी परिवार में हुआ था विराट कोहली के पिता प्रेमजी कोहली जो की पेशे से एक वकील थे जिनकी आकस्मिक मृत्यु 2006 में ब्रेन स्ट्रोक के कारण हुई थी और इनकी माता सरोज कोहली एक गृहणी है विराट कोहली के बड़े भाई जिनका नाम विकास कोहली और बड़ी बहन भावना है

पूरा नाम   – विराट कोहली (Virat Kohli)

जन्मतिथि – 5 नवम्बर 1988

जन्मस्थान – दिल्ली – भारत (Delhi  – India)

माता – सरोज कोहली (गृहणी)

पिता – प्रेमजी कोहली (वकील)

कार्यक्षेत्र – क्रिकेट खिलाडी (Cricketer)

विशेष उपलब्धी – 2008 में अंडर 19 विजेता टीम के कप्तान, 2011 विश्व कप विजेता टीम के हिस्सा, लक्ष्य का पीछा करते हुए जीत हासिल करने में महारत,

वो कहते है न पूत के पाँव पालने में ही दिख जाते है इसी कहावत को चरितार्थ करते हुए महज 3 साल की उम्र में ही विराट कोहली ने अपने गली मुह्हलो में क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था जिसको देखते हुए विराट कोहली के पडोसी ने विराट कोहली के पिता को समझाते हुए कहा की अगर क्रिकेट खिलाना ही है तो विराट को किसी प्रोफेशनल क्रिकेट क्लब में प्रशिक्षण के लिए भेज दो ऐसे गलियों में क्रिकेट खेलकर विराट अपने समय को युही व्यर्थ न करे पडोसी की इस Advice को मानकर विराट कोहली के पिता ने विराट का दाखिला दिल्ली क्रिकेट एकेडमी में करा दिया और यही पर विराट कोहली अपने क्रिकेट के प्रथम गुरु कोच राजकुमार शर्मा से मुलाकात हुई राजकुमार शर्मा प्यार से विराट कोहली को चीकू बुलाते थे जिन्होंने विराट कोहली के जीवन को बदल दिया और सफलता की उस बुलन्दियो पर पंहुचा दिया जिस मुकाम को पाने के लिए सभी सोचते है

विराट कोहली ने अपनी शिक्षा की शुरुआत विशाल भारती से शुरू किया और फिर नौवी क्लास से अपनी पढाई सेवियर कान्वेंट स्कूल से किया और फिर इंटरमीडिएट की परीक्षा के बाद अपनी पढाई छोड़ दिया इसके बाद विराट कोहली कभी भी कॉलेज नही गये और फिर विराट कोहली ने अपना सारा ध्यान क्रिकेट पर फोकस किया और फिर जब 2006 में अपने पिता के अचानक मृत्यु से विराट कोहली के लिए एक बहुत ही दुखद क्षण था और इस इस प्रकार अचानक हुए पिता की मृत्यु से पूरा परिवार सदमे में आ गया था इस दुःख के पल को झेलना विराट कोहली के लिए आसान नही था कोहली जब भी अपने पिता को याद करते है तो वे कहते है की “मेरे पिताजी ही मेरे सबसे बड़े सहारा थे बचपन से मैंने अपने पिता के साथ क्रिकेट खेलना शुरू किया था जो हर रोज मेरे साथ खेलते थे और पिता की अचानक मृत्यु आज भी मुझे खलती है और लगता है जैसे पिता की कमी मुझे हर पल होती है”

“सपने देखो और उन्हें पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत करो और यदि खुद पर यकीन हो तो कुछ भी कर पाना मुमकिन है” – विराट कोहली / Virat Kohli

विराट कोहली क्रिकेट कैरियर / Virat Kohli Cricket Career Life in Hindi

विराट कोहली 2002 में अंडर 15 के लिए क्रिकेट मैच खेलते थे इसके बाद वे 2004 में अंडर 17 के लिए चुन लिए गये जहा पर अपने जबर्दस्त प्रदर्शन के बदौलत 2006 में विराट कोहली अंडर 19 में सेलेक्सन हो गया जो विराट कोहली का पहला विदेशी धरती पर पहला मैच इंग्लैंड के साथ हुआ जहा विराट कोहली ने तीन एकदिवसीय मैचो में 105 रन बनाये और फिर 2006 में ही कर्नाटक के खिलाफ खेल रहे थे की अचानक इनके पिता की मृत्यु की खबर आयी और इस मैच में 90 रन की पारी खेलने के बाद वे सीधा अपने अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल हुए और फिर एक के बाद अच्छे प्रदर्शन करते हुए 2008 में एक कप्तान के रूप में भारतीय टीम को अंडर 19 विश्वकप का विजेता बनाया और विराट कोहली का अंडर 19 विश्वकप का विजेता बनाना इनके करियर का टर्निंग पॉइंट था जिसके चलते अपने बेस्ट प्रदर्शन की वजह से विराट कोहली अब हर न्यूज़ अख़बार के सुर्खिया बन चुके थे

इसके बाद 2008 में पहली बार भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा बने और अपने अंतराष्ट्रीय मैच की शुरुआत श्रीलंका के खिलाफ किया जहा पर अपने पहले मैच में विराट कोहली ने 12 रन बनाये और इस सीरीज में अपना पहला अर्धशतक भी लगाया इसके बाद विराट कोहली को कई मैच में में चयन तो होता था लेकिन दिग्गज खिलाडियों के चलते इन्हें खेलने का मौका नही मिल पाता था

लेकिन 2010 में भारतीय एकदिवसीय मैच के उपकप्तान के रूप में विराट कोहली को खेलने का मौका मिला जहा पर विराट कोहली ने अपने सबसे तेज 1000 एक दिवसीय रन पूरा किये और इसके बाद 5000 सबसे तेज रन बनाने वाले खिलाडी विराट कोहली बने जिनके प्रदर्शन की वजह से 2012 से ICC की तरफ से बेस्ट ODI Player of the Year चुना गया

विराट कोहली जिस प्रकार से अपने तेजी से रन बनाते है उनके इसी प्रतिभा के चलते हर भारतीय इनके खेल का दीवाना हो गया है अपने नाम के अनुरूप विराट कोहली खेलो में लगातार विराट प्रदर्शन कर रहे है जिससे इनके चाहने वाले फैन इनकी तुलना सचिन तेंदुलकर से भी करते है और विराट के सबसे तेज शतक बनाने के रिकॉर्ड को देखते हुए ISRO के वैज्ञानिको ने जब अपने एक साथ 104 सेटेलाइट हाल में अन्तरिक्ष में लांच किये तो इसकी तुलना विराट कोहली के शतको से किया और वैज्ञानिको ने कहा की हमने भी विराट कोहली की तरह अन्तरिक्ष में शतक मारा है या यु कहे जब विराट कोहली का बल्ला चलता है तो इनके खेल की दीवानी पूरी दुनिया हो जाती है

विराट कोहली युवाओ में सबसे अधिक लोकप्रिय है और कोई भी स्टार क्रिकेटर अपने स्टारडम से अछूता नही है इसी कड़ी में विराट कोहली का नाम भी भारतीय सिने अभिनेत्री अनुष्का शर्मा (Anushka Sharma) के साथ भी जोड़कर देखा जाता है जिनके प्यार और अफेयर के चर्चे अक्सर अख़बार और न्यूज़ की सुर्खिया बने रहते है

भले ही विराट कोहली आज सफलता के जिस मुकाम पर पहुचे है लोगो के लिए उनका जीवन एक प्रेरणादायक है चाहे परिस्थिति कितनी भी विपरीत क्यू न हो विराट कोहली कभी भी अपना हिम्मत नही हारते है और वे एक पूरे गेम प्लानिग के साथ अपने विजय लक्ष्य को हासिल करते है और इन सभी स्थिति में पाने पिता के अपने जीवन के प्रति दिए बहुमूल्य योगदान को कभी भी नही भूलते है

“अगर मेरे शब्द लोगो को कुछ मदद कर सकते है तो मै सभी से यही कहना चाहता हु की यदि आप सभी अपने आप पर विश्वास कर सकते हो तो कुछ भी हासिल भी कर सकते हो मै इसी स्लोगन को जीता हु मै अपनी जिन्दगी के हर दिन के हर पल को इसी अहसास के साथ जीता हु और आप अपने जीवन में क्या क्या हासिल कर सकते हो इसकी कोई तयसीमा नही है और आप के साथ भी ऐसा हो सकता है” – विराट कोहली / Virat Kohli

आप सभी को विराट कोहली के जीवन पर आधारित लिखा गया पोस्ट क्रिकेटर विराट कोहली का जीवन परिचय / Cricketer Virat Kohli Biography in Hindi कैसा लगा प्लीज हमे कमेंट बॉक्स में जरुर बताये

  • 6
    Shares

Ravi Bhosale

मेरा नाम रवि भोसले है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, Startup,Technology, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Subscribe करें।

Signup for our newsletter and get notified when we publish new articles for free!